Monday, 27 May 2019, 6:01 PM

मेरे मन की

शादी में व्यावहारिक होना जरूरी : चेतन भगत-अनुषा

Updated on 4 December, 2014, 14:18
सलेब्रिटी लेखक चेतन भगत और उनकी हमसफर अनुषा की शादी को छह साल हो चुके हैं। जुडवां बच्चों के माता-पिता हैं ये। दोनों अलग-अलग राज्यों व पृष्ठभूमि से आते हैं। मगर इन्होंने साथ चलने का फैसला लिया और आज ख्ाुश हैं। पहली मुलाकात अनुषा : फिल्म 'टू स्टेट्स के अर्जुन कपूर और... आगे पढ़े

धैर्य से निभाए जाते हैं रिश्ते: रोनू मजूमदार-संगीता

Updated on 20 November, 2014, 23:24
हिंदुस्तानीक्लासिकल म्यूजिक में अलग पहचान है बनारस (उप्र) में जन्मे बांसुरीवादक रेनेंद्र नाथ मजूमदार की, जिन्हें संगीतप्रेमी पंडित रोनू मजूमदार के नाम से जानते हैं। बांसुरी उन्होंने अपने पिता डॉ. भानु मजूमदार से सीखी। विश्वविख्यात सितारवादक पं. रविशंकर के शागिर्द रहे और संगीतकार आर.डी. बर्मन के साथ भी म्यूजिक दिया।... आगे पढ़े

इस चाहत को आहत न होने दें

Updated on 20 November, 2014, 23:20
स्वस्थ जीवन का अहम हिस्सा है सेक्सुअलिटी। आधुनिक जीवनशैली ने लोगों की सेक्स लाइफ को बहुत प्रभावित किया है। सेक्स से जुडी कई समस्याएं भी बढी हैं। ऐसी ही एक समस्या है हाइपोएक्टिव  सेक्सुअल  डिजायर  डिसॉर्डर  (एचएसडीडी)। हालांकि इसका सही-सही कारण वैज्ञानिक नहीं खोज पाए हैं, लेकिन इसके लक्षणों के... आगे पढ़े

परिवार के सहयोग से दूर हुआ डिप्रेशन

Updated on 6 November, 2014, 10:00
लगभग 5 साल पहले की बात है। एक रोज मेरे पास किसी स्त्री का फोन आया। वह काफी परेशान लग रही थी। बातचीत से मालूम हुआ कि उसकी शादी को 15 साल हो चुके हैं और वह दो बचों की मां है। पति सरकारी नौकरी में हैं। उसका कहना था... आगे पढ़े

भरोसा मुकम्मल हो तभी शादी करें

Updated on 18 October, 2014, 22:32
राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (एनएसडी) से उत्तीर्ण जाकिर हुसैन मेरठ के हैं। सरिता से इनकी मुलाकात दिल्ली में एनएसडी के दिनों में हुई। करीब 10 वर्ष तक लगातार साथ काम करने के बाद दोस्ती हुई। फिर लगा कि हमारे बीच इतनी समझदारी हो गई है कि शादी की जा सकती है।... आगे पढ़े

गुस्से ने प्यार बढ़ाया

Updated on 17 September, 2014, 18:46
मेरी शादी हुए कई साल बीत गए हैं। इन वर्षो में कई बार और काफी नोकझोंक हुई है। यह कुछ समय पहले की बात है इनकी तबियत थोड़ी खराब थी और यह बात-बात पर गुस्सा हो जाते थे। दो दिन तक तो मैं चुप रही, लेकिन तीसरे दिन मुझे भी... आगे पढ़े

कैसे जिंदगी की बात करें... सुनीता घिल्डियाल (देहरादून)

Updated on 1 August, 2014, 12:54
गुमनाम आवाज़ों के लश्कर में खोई-खोई बहार है, रुठा-रुठा मौसम है कैसा उदास मंज़र है इसमें तुम और मैं दीवानों की मानिंद मिलकर कैसे जिंदगी की बात करें शहरों की बौखलाई सड़कों पे रफ़्तार में बंधा मौसम धूल और आवाज़ों का समंदर कितनी ऊब है यहां, इसमें, तुम और मैं दीवानों की मानिंद मिलकर कैसे जिंदगी की बात करें। सवेरे की सोचते... आगे पढ़े

प्यार का तोहफा अनमोल

Updated on 13 May, 2014, 14:25
मां और संतान के रिश्ते से खूबसूरत रिश्ता नहींहै कोई। मां बच्चे की आंखें पढ़ना जानती है, उसका हर दर्द समेट लेती है अपने आंचल में। सही-गलत का फर्क सिखाती है। बच्चे की गल्तियों पर उसे सजा देना भी जानती है, ताकि संवार सके उसका भविष्य। इस मदर्स डे पर... आगे पढ़े

मदर्स डे : ताकि मां बची रह सके...

Updated on 9 May, 2014, 13:00
मां, एक शब्द शहद की मिठास से भरा। मां, एक रिश्ता परिभाषाओं की परिधि से परे। मां, बेशुमार संघर्षों में अनायास खिल उठने वाली एक आत्मीय मुस्कान, एक शीतल एहसास। मां, न पहले किसी उपाधियों की मोहताज थीं, ना आज किसी कविता की मुखापेक्षी। निरंतर देकर भी जो खाली नहीं... आगे पढ़े

दूर तो हूं नहीं..

Updated on 22 April, 2014, 11:07
शादी के बाद मैं पहली बार इनके घर आई थी। ऑफिस से आने के बाद ये थोड़ी देर तो घर पर रहते, फिर खाना खाने के बाद तुरंत यह कहकर घर से निल जाते कि टहल कर अभी आता हूं। उनका इंतजार करते-करते मैं एक झपकी भी ले लेती। ये... आगे पढ़े

क्यों तेरे हाथों से मेरी अंगुली छूट गई - लक्ष्मी नारायण खरे

Updated on 16 March, 2014, 13:23
मां क्यों तू मुझसे रूठ गई क्यों तेरे हाथों से मेरी अंगुली छूट गई क्यों तेरी ममता पे मेरा अधिकार नहीं क्यों बेटों के जितना मुझपे तेरा प्यार नहीं पराई नहीं मैं अपना के देखो मां अंश हूं तुम्हारा गले लगा के देखो मां कैसे समझ लिया तूने तेरी किस्मत फूट गई क्यों तेरे हाथों से मेरी... आगे पढ़े

महिलाओं के काम को मिलनी चाहिए तवज्जो

Updated on 9 March, 2014, 13:26
आजादी के 65 वर्ष बाद भी भारत एक ऐसा समाज विकसित करने में नाकामयाब रहा है, जहां सभी के लिए समान अधिकार हों। महिलाओं के खिलाफ हिंसा चरम पर है और इसकी वजह लिंग के आधार पर जन्म से ही शुरू हुआ शिक्षा, स्वास्थ्य और स्वतंत्रता में भेदभाव है। 21वीं... आगे पढ़े

नहीं चाहिए हमें यह एक दिन का एहसान

Updated on 8 March, 2014, 13:09
प्रज्ञा मिश्रा, लंदन से 8 मार्च फिर हाजिर है और हमसे उम्मीद है कि इस अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर महिलाओं के लिए उनके भले के लिए या उनके हक़ के लिए कुछ कहा जाए कुछ लिखा जाए। जिधर नज़र डालो उधर इस दिन की धूम है। दुनिया जहान की उन... आगे पढ़े

महिला दिवस के असली मायने - किरण बेदी

Updated on 7 March, 2014, 12:57
आठ मार्च को महिला दिवस के मौके पर क्या हमें लीक से हटकर कुछ नहीं करना चाहिए? आठ मार्च से पहले और बाद में हफ्ते भर तक विचार विमर्श और गोष्ठियां होंगी जिनमें महिलाओं से जुड़े मामलों जैसे महिलाओं की स्थिति, कन्या भ्रूण हत्या, लड़कियों की तुलना में लड़कों की... आगे पढ़े

सुनो, तुम चरित्रहीन नहीं हो... ! डॉ. मीनाक्ष‍ी स्वामी

Updated on 5 March, 2014, 12:51
एक ओर तो समाज में स्त्रियों की स्थिति में सुधार के लिए संवैधानिक, कानूनी, सामाजिक सभी स्तरों पर तेजी से प्रयत्न हो रहे हैं। दूसरी ओर अत्यंत शर्मनाक है कि स्त्रियों के विरुद्ध बलात्कार जैसे कुकृत्य और उसके बाद सभी स्तरों पर उसकी प्रताड़ना में तेजी से वृद्धि हो रही... आगे पढ़े

होली आई... - रश्मि रमानी

Updated on 3 March, 2014, 13:00
कुछ दिन पहले लगभग ठूंठ हो चुके पेड़ पर अचानक नजर पड़ी तो हैरान होकर मैंने पूछा ये कैसे हुआ? लाल-‍केसरिया पत्तियों की तलियां पीट-पीटकर टेसू मुस्कुराया 'होली आई'। हवा से ‍बतियाना चाहा खुशी से मेरे गालों को सहलाकर उसने कहा फागुन आया। इमली लगी लटालूम आम के पक गए बौर कोयल का स्वर गा रहा फाग रसवंती रंगप्रिया के मन में उमड़ आया गहरा अनुराग। मैंने भी बरसों... आगे पढ़े

तेरे होठों पर मुस्कुराहट हो

Updated on 28 February, 2014, 12:48
जिंदगी !!! तेरे होठों पर मुस्कुराहट हो तेरे माथे पर चमकता सूरज हो तेरे कांधों पर घटाओं के घेरे हों तेरी छुअन में एक उष्णता हो जिंदगी !!! तू जब भी मिले मुझसे तेरा चेहरा मां से मिलता हो तेरी आंखों में पिता का लाड़ हो तेरी हथेलियों में हरारत हो जिंदगी !!! तू मिले, तो मिलना उजाला बनकर सूरज... आगे पढ़े

प्यार के आगे हारी विकलांगता, खत्म हुआ 16 साल का इंतजार

Updated on 24 February, 2014, 13:25
इंदौर। प्यार सिर्फ खूबसूरती और शारीरिक सक्षमता का मोहताज नहीं। यह दो दिलों का मिलन है। इस बात को शहर के एक जोड़े ने सच साबित कर दिया। शनिवार को एक युवती ने व्हीलचेयर पर जिंदगी बिताने वाले लड़के के साथ विवाह कर अपने 16 साल के प्रेम को मुकाम... आगे पढ़े

संकल्प के साथ

Updated on 8 February, 2014, 18:30
संकल्प छोटा हो या बड़ा, उसे निभाने के लिए दृढ़ता की जरूरत होती है। लक्ष्य चाहे जैसे भी हों, अगर दृढ़ इच्छाशक्ति के साथ सही दिशा में ईमानदारी से मेहनत करें, तो मंजिल मुश्किल नहीं। कैसे हासिल करें यह दृढ़ता, बता रहे हैं अरुण श्रीवास्तव.. एक बार एक संत की ख्याति... आगे पढ़े

क्या शक है सबसे बड़ा दुश्मन?

Updated on 1 February, 2014, 19:58
जहां से विश्वास टूटता है, वहीं से शक की शुरुआत होती है। यह सही है कि सभी पर आंखें मूंदकर विश्वास नहीं किया जा सकता, लेकिन जब कोई अपने करीबी लोगों या छोटी-छोटी बातों पर शक करने लगे तो यह स्थिति उसके लिए ठीक नहीं है। इसलिए जहां तक संभव... आगे पढ़े

जानिए, कैसे रहें शादी के बाद खुश

Updated on 25 January, 2014, 19:35
प्यार नितांत निजी भाव है और हर व्यक्ति पूरी तरह से स्वतंत्र है कि वह किससे भावनात्मक तौर पर जुड़े'.. परंतु जब 'प्यार' को 'शादी' में ट्रांसलेट करने का प्रयास किया जाता है तो ढेरों वर्जनाएं, नियम, शर्ते और अपेक्षाएं सामने आती हैं, क्योंकि 'शादी' तो पारिवारिक और सामाजिक स्वीकृति... आगे पढ़े

अकेले नहीं, सब साथ मिलकर चलें, यही है 'साथ का दम'

Updated on 19 January, 2014, 17:46
गुजरात की जसवंतीबेन आत्मनिर्भर होना चाहती थीं। इसलिए मन ही मन उन्होंने एक योजना बनाई। उन्होंने अपने साथ कुल आठ महिलाओं को जोड़ा और उस योजना पर अमल करना शुरू किया। सबने मिलकर लिज्जत पापड़ की नींव रखी। अब तक ये लोग अपने साथ 45 हजार से अधिक महिलाओं को... आगे पढ़े

जानिए, कैसे बनाएं मधुरता रिश्तों में

Updated on 12 January, 2014, 17:56
सुखद दांपत्य के लिए कोई बंधा-बंधाया नियम नहीं है। बहुत सारे दंपति यह मानते हैं कि जीवनसाथी को महंगे उपहार देकर और बाहर घूमने-फिरने से ही खुशियां बरकरार रखी जा सकती हैं, पर हकीकत में ऐसा नहीं है। जीवन में छोटी-छोटी बातों को महत्व देकर भी खुशहाल दांपत्य जिया जा... आगे पढ़े

अमेरिका की सुप्रसिद्ध पत्रिका \'टाइम\' के टीन अचीवर

Updated on 1 January, 2014, 20:13
अमेरिका की सुप्रसिद्ध पत्रिका 'टाइम' ने दुनिया के 16 प्रभावशाली टीनएजर्स को चुना है। आओ जानते हैं उनके बारे में.. लॉर्ड (17) न्यूजीलैंड की सिंगर और सॉन्गराइटर लॉर्ड ने अपने पहले ही एलबम 'प्योर हीरोइन' के बल पर पूरी दुनिया में अपने सुरों का लोहा मनवाया। लिडिया को (16) न्यूजीलैंड की गोल्फर लिडिया 'द... आगे पढ़े

हाय राम \'काम ही काम\'

Updated on 21 December, 2013, 20:45
धूप में फुर्सत से बाल सुखा रही थीं वंदना। नहाकर आई थीं, गुनगुनी धूप थी। कामवाली सारा काम करके निकल गई थी। पति भी ऑफिस पंहुच चुके थे। लंच पर भी नहीं आने वाले थे। बच्चे स्कूल में थे। मोबाइल की घंटी बजी, कॉल पिक की तो उधर उनकी दोस्त... आगे पढ़े

ऐसे बनाऐं रिश्तों में मिठास

Updated on 14 December, 2013, 19:04
रिश्तों को अच्छी तरह से निभाने के लिए यह बहुत जरूरी है कि आपको पता हो कि आपका व्यवहार व दूसरे की समझ कैसी है। स्थितियों व तथ्यों को जानकर समझने की कोशिश करें। विशेषज्ञों का मानना है कि जो दंपति शांत दिख रहे होते हैं या जिनके बीच झगड़ा... आगे पढ़े

क्या युवा पीढ़ी अपनी संस्कृति भूल रही है

Updated on 7 December, 2013, 21:18
संस्कृति से ही है पहचान डॉ. आभा माथुर, उन्नाव किसी भी समाज की पहचान उसकी संस्कृति से ही होती है, लेकिन यह देख कर मुझे बहुत दुख होता है कि हमारी युवा पीढी तेजी से अपनी संस्कृति और पारंपरिक मूल्यों को भूलती जा रही है। बडों का सम्मान करना, अपने त्योहार मनाना,... आगे पढ़े

क्या आप रेडी है वेडिंग सीजन के लिए..

Updated on 19 November, 2013, 12:30
जब तक आपकी ड्रेस में एनर्जेटिक वाइब्रेंट कलर्स, न्यू पैटर्न और कट्स नहीं होंगे तब तक आप वेडिंग सीजन को पूरा एंजॉय नहीं कर पाएंगी। आपकी ड्रेस वेडिंग के उत्साह को दोगुना कर सकती है, लेकिन वेडिंग के दौरान आपके पास काम भी बहुत रहते हैं। ऐसे में आपको कुछ... आगे पढ़े

पिया का चांद का इंतजार याद आता है

Updated on 27 October, 2013, 19:11
विवाह के बाद मैंने करवाचौथ के व्रत के बारे में जाना। मैं बंगाली थी और पति नरेन्द्र अरोरा पंजाबी। हम दोनों के लिए विवाह का वह पहला करवाचौथ हमेशा के लिए यादगार बन गया। मुझसे ज्यादा इन्हें चांद के दीदार का अधिक इंतजार था, सेना के जाबांज बिग्रेडियर का मेरा... आगे पढ़े

बैंकिंग में भी स्मार्टनेस जरूरी है..

Updated on 9 October, 2013, 12:28
हलो मैं ..बैंक के हेड ऑफिस से बोल रहा हूं। आपका एटीएम कार्ड ब्लॉक हो गया है उसको फिर से अनब्लॉक करना है, मैं शुरुआत के अंक बता रहा हूं, कृपया आप आखिरी के चार अंक और अपना सीक्रेट पिन कोड बता दें, ताकि आपका एटीएम कार्ड चालू किया जा... आगे पढ़े

दरअसल