Monday, 27 May 2019, 5:58 PM

दरअसल

बाक़ी से कुछ हटकर हैं ये क़ाज़ी साब !

Updated on 17 June, 2018, 20:23
• एक मुलाकात/ कीर्ति राणा पहले इनके अब्बा हुज़ूर याकूब अली साहब इंदौर के शहर क़ाज़ी थे। उनके जन्नत नशीं होने के बाद (पेशे से शिक्षक) डा. इशरत अली शहर क़ाज़ी हुए। फिल्मों में निकाह पढ़ाने वाले मौलवी-क़ाज़ी वाली छवि से ये शहर क़ाज़ी कुछ हट कर हैं तो इसलिए... आगे पढ़े

राष्ट्र संत का डेडबॉडी हो जाना !

Updated on 14 June, 2018, 10:17
दरअसल ————- कीर्ति राणा उड़ जाएगा हंस अकेला, जग दर्शन का मेला ....कबीर जैसा न किसी ने लिखा और न कुमार गंधर्व जैसा उनका लिखा किसी ने गाया। गोली मारने से लेकर अस्पताल लाए जाने तक जिन सब लोगों की ज़ुबान पर भय्यू महाराज नाम था, दोपहर ढाई बजे बाद  वही नाम डेडबॉडी... आगे पढ़े

संतों से तो फिर आम आदमी ज्यादा अच्छा

Updated on 13 June, 2018, 9:58
• दरअसल / कीर्ति राणा जब वे उदय देशमुख थे और महेंद्रा सीमेंट में मैनेजर थे, तब से महेंद्र बापना और मेरी मित्रता थी। चैन स्मोकर थे, जितनी देर में मेरी कट चाय पूरी होती उतने वक्त में वे दूसरी सिगरेट सुलगाने की तैयारी में होते।हमारा मुलाक़ातों का सिलसिला कम... आगे पढ़े

अपने सीएम जी ने तो स्वीकार लिया किसानों का चैलेंज

Updated on 31 May, 2018, 14:52
दरअसल/ कीर्ति राणा किसानों के हित की सरकार चलाते चलाते सीएमजी ने बैठे ठाले किसानों का एक से दस जून वाला चैलेंज स्वीकार कर लिया है।वो कौन लोग हैं जो किसान हितैषी सरकार से किसानों का मोह भंग कराने की साज़िश रच रहे हैं।मुझे तो लगता है जब से कांग्रेस... आगे पढ़े

पहले विराट कोहली के चैलेंज का जवाबी वीडियो आ जाए, पेट्रोल की चिंता बाद में

Updated on 25 May, 2018, 10:53
• दरअसल / कीर्ति राणा हर ज़रूरी चीज़ महँगी होती जाए तो एक ही कारण होता है पेट्रोल-डीज़ल के बेक़ाबू होते भाव। सरकार कहती रही है कि तेल कंपनियों की मजबूरी और विश्व बाजार में कच्चे तेल के भाव की घटत-बढ़त जैसे कारणों से उसके हाथ में कुछ नहीं है।... आगे पढ़े

लोकतंत्र को मिली दो बूँद जीवन की !

Updated on 20 May, 2018, 10:58
दरअसल ———— कीर्ति राणा भाजपा के नाटक का ऐसा दुखद अंत होगा, ये राज्यपाल से लेकर नरेंद्र भाई, अमित भाई के लाखों लाख भक्तों ने भी नहीं सोचा होगा। मिठाई के डिब्बे खोल ही नहीं पाए, सुबह से ही बधाई गीत बजाने को आतुर चैनलों को मन मसोसकर शास्त्रीय संगीत बजाना पड़ा।... आगे पढ़े

आज बड़ा कर नाटक

Updated on 19 May, 2018, 12:32
• दरअसल/कीर्ति राणा अपने उज्जैन में हर साल कार्तिक माह में क्षिप्रा किनारे गधों का मेला भी लगता है। मेले में बिक्री के लिए लाए जाने वाले गधों के नाम हीरो-हीरोइन के नाम पर रहते ज़रूर हैं लेकिन उस मान से क़ीमत नहीं मिलती क्योंकि रहता तो वह गधा ही है।... आगे पढ़े

नंबर वन का हमारा मुक़ाबला हम से ही था

Updated on 17 May, 2018, 8:35
• दरअसल / कीर्ति राणा/ 89897-89896 हम फिर से स्वच्छता में सारे देश में नंबर वन घोषित हुए हैं तो यह नगर निगम के सोलह हजार अधिकारी, कर्मचारियों की रात-दिन की सतत मेहनत का सुफ़ल तो है ही,  हम सब रहवासियों द्वारा पालन किए जाने वाले स्व अनुशासन का नतीजा भी... आगे पढ़े

राजनीति में कर नाटक !

Updated on 17 May, 2018, 8:34
दरअसल ———- कीर्ति राणा शनिदेव को न्यायाधिपति कहा जाता है और शनिश्चरी अमावस्या के दिन कर्नाटक विधानसभा के जो चुनाव परिणाम आए हैं वो सभी प्रमुख दलों के साथ उनकी क़ाबिलियत के मुताबिक न्यायसंगत ही हैं। मतदान के बाद से कांग्रेस जिस तरह सरकार बनाने को आश्वस्त दिख रही थी, उसे मात्र 78... आगे पढ़े

तेरी सुनेगा कौन लाल क़िले !

Updated on 30 April, 2018, 18:21
दरअसल ————- कीर्ति राणा/89897-89896 कब्र में पैर लटकने की उम्र में पहुँच चुके हमारे माँ बाप की बेहतर सेहत की देखरेख के लिए किसी कंपनी को ठेका दिया जा सकता है ? यदि हाँ तो फिर सरकार के निर्णय का समर्थन होना चाहिए।लालक़िला हमारे देश की वैसी ही विरासत है जैसे इंदौर के... आगे पढ़े

सरकार ढाई हजार का नोट लाओ ना!

Updated on 19 April, 2018, 15:22
दरअसल ————— कीर्ति राणा/89897-89896  रंगरोगन करने वाले कारीगर का तीन दिन पहले फ़ोन आया कि कुछ इंतज़ाम कर दें परिवार में शादी है ।उसे अगले दिन आने को कह दिया, इससे पहले पलासिया से लेकर तुलसी नगर तक एक के बाद एक सभी बैंकों के एटीएम पर प्रयास किए, कई जगह तो... आगे पढ़े

दरअसल